राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण से बजट सत्र शुरू, बोले 26 जनवरी की घटना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण, किसानों के हित में है कानून
Budget session begins with President Ram Nath Kovind's address, said January 26 incident is very unfortunate, law is in the interest of farmers

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण से बजट सत्र शुरू, बोले 26 जनवरी की घटना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण, किसानों के हित में है कानून

नई दिल्ली: शुक्रवार को संसद का बजट सत्र आज से शुरू हो गया है, इसकी शुरुआत आज राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण के साथ की गई। इस बजट सत्र का कांग्रेस समेत 19 विपक्षी दलों ने राष्ट्रपति के अभिभाषण के बहिष्कार का फैसला किया। इस दौरान कांग्रेस, एनसीपी, डीएमके, तृणमूल कांग्रेस, समाजवादी पार्टी, सीपीएम समेत कई पार्टियों ने साझा बयान जारी करके कहा किसानों की मांगों पर सरकार का रुख अड़ियल है जिसके विरोध में विपक्षी दल राष्ट्रपति के अभिभाषण का बॉयकॉट करेंगे।

प्रमुख पार्टियों द्वाार जारी बयान में कहा है कि किसानों की मांगों पर सरकार का रुख अड़ियल है जिसके विरोध में विपक्षी दल राष्ट्रपति के अभिभाषण का बॉयकॉट करेंगे। इस दौरान अपने भाषण में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि ने 26 जनवरी को दिल्ली में हुई ट्रैक्टर परेड हिंसा और लाल किले की घटना को बेहद दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया है, उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा लागू किये गए तीनों कृषि कानूनों किसानों के हित के लिए लाभदायक हैं।

इस मौके बोलते राष्ट्रपति ने कहा कि वंदे भारत मिशन, जो दुनिया में इस प्रकार का सबसे बड़ा अभियान है, उसकी सराहना हो रही है। भारत ने दुनिया के सभी हिस्सों से लगभग 50 लाख भारतीयों को स्वदेश वापस लाने के साथ ही एक लाख से अधिक विदेशी नागरिकों को भी उनके अपने देशों तक पहुंचाया है। भारत ने ऐतिहासिक वैश्विक समर्थन हासिल करके इस वर्ष आठवीं बार एक अस्थायी सदस्य के रूप में सुरक्षा परिषद में प्रवेश भी किया है। भारत ने 2021 के लिए ब्रिक्स में अध्यक्ष पद भी ग्रहण किया है।