चमोली आपदाः अब तक 61 शव मिले, 143 लोग अभी भी लापता, रेस्क्यू अभियान जारी
Chamoli disaster: 61 bodies found so far, 143 people still missing, rescue operations continue

चमोली आपदाः अब तक 61 शव मिले, 143 लोग अभी भी लापता, रेस्क्यू अभियान जारी

उत्तराखंडः उत्तराखंड़ के चमोली जिले में 7 फरवरी को ग्लेशियर टूटने के बाद आई आपदा में प्रभावित लोगों के लिए राहत अभियान लगातार जारी है। चमोली हादसे के रेस्क्यू का आज 13वां दिन है। हादसे के 13वें दिन तपोवन सुरंग से दो लोगों और रैणी गांव निवासी एक महिला का शव मिला है। टनल से एक मानव अंग भी बरामद हुआ है। ये आपदा इतनी भयावह थी कि अब तक चमोली के कई हिस्सों में मलबा दिख रहा है। आपदा में लापता 204 लोगों में से 61 शव मिल चुके हैं जबकि 143 अभी भी लापता हैं। वहीं 27 मानव अंग भी अलग-अलग स्थानों से बरामद हुए हैं। वहीं टनल से पानी निकालने के बाद से यहां फिर से मलबा हटाने का काम शुरू हो गया है। इसे खोदकर एनडीआरएफ, एसडीआरएफ और उत्तराखंड पुलिस रेस्क्यू ऑपरेशन को अंजाम दे रही है।

मलबे में दबे लोगों को खोजने के लिए एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमें डॉग स्क्वॉड, दूरबीन, राफ्ट और अन्य उपकरणों का इस्तेमाल कर रहीं हैं। अधिकारियों ने बताया कि तपोवन टनल में अभी भी बड़ी संख्या में लोगों के होने की आशंका है। कीचड़ और दलदल होने के चलते रेस्क्यू में दिक्कतें आ रहीं हैं। लोगों के शव खराब न हों इसलिए रेस्क्यू ऑपरेशन संभालकर चलाया जा रहा है। इस बीच, एसडीआरएफ ने रैणी गांव के पास ऋषिगंगा नदी में वॉटर सेंसर लगा दिया गया है। नदी में जलस्तर बढ़ने से पहले ही ये अलार्म बजने लगेगा। इसका अलार्म एक किलोमीटर की दूरी तक लोग सुन सकेंगे और समय रहते सुरक्षित स्थानों तक पहुंच जाएंगे।