जालंधर के डिप्टी कमिश्नर का बड़ा ऐलान, अस्पताल अब कोविड-19 टेस्ट के लिए नहीं ले सकते ज्यादा फीस
Jalandhar deputy commissioner makes big announcement; hospitals can no longer charge higher fees for Kovid-19 test

जालंधर के डिप्टी कमिश्नर का बड़ा ऐलान, अस्पताल अब कोविड-19 टेस्ट के लिए नहीं ले सकते ज्यादा फीस

जालंधरः निजी अस्पतालों द्वारा कोविड-19 के टेस्ट के लिए लोगों से बसूली जा रही भारी फीसों को देखते हुए पंजाब सरकार द्वारा कोविड टेस्ट के लिए रेट तय कर दिए गए हैं और इस संबंधी राज्य के सभी जिलों को आदेश भी जारी कर दिए गए हैं। मंगलवार को जानकारी देते डीसी घनश्याम थोरी ने बताया कि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा जारी किए गए आदेशों के अनुसार, सभी निजी अस्पताल, नर्सिंग होम, डायग्नोस्टिक लैब आदि विभिन्न कोविड-19 उपचार और परीक्षण के लिए सरकार द्वारा निर्धारित शुल्क से अधिक शुल्क नहीं ले सकते।

उन्होंने कहा कि जिले में निजी प्रयोगशालाएं अधिकतम 900 रुपये आरटी-पीसीआर परीक्षण के लिए और 2000 रुपये, सीटी स्कैन / एचआरसीटी चेस्ट के लिए ले सकते हैं। उन्होंने सभी प्रयोगशालाओं को अपनी सीटी स्कैन रिपोर्ट के आधार पर किसी व्यक्ति को कोविड-19 के लिए सकारात्मक या नकारात्मक घोषित नहीं करने का निर्देश दिया, जब तक कि वे आवश्यक आरटी-पीसीआर परीक्षण से नहीं गुजरते।

थोरी ने उल्लेख किया कि सभी निजी अस्पताल और प्रयोगशालाएं सिविल सर्जन कार्यालय के साथ कोविड-19 उपचार और परीक्षणों के बारे में अपना डेटा नियमित रुप से प्रस्तुत करेंगे और सिविल सर्जन को पत्र और आत्मा में सरकार के आदेशों के कार्यान्वयन को सुनिश्चित करने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि सहायक देखभाल और ऑक्सीजन सहित अलग बिस्तर की आवश्यकता के लिए मध्यम बीमारी के लिए, सभी निजी मेडिकल कॉलेजों / शिक्षण संस्थानों के साथ निजी संस्थानों के लिए प्रवेश के दर प्रति दिन 10,000 रुपये, एनएबीएच मान्यता प्राप्त अस्पतालों के लिए 9000 रुपये के लिए निर्धारित हैं। उन्होंने कहा कि गंभीर बीमारी की श्रेणियों के लिए क्रमश: 15,000, 14,000 और 13,000 रुपये जबकि बहुत गंभीर या गंभीर बीमारी के लिए इन पर क्रमश: 18,000, 16,500 और 15,000 रुपये सभी दरें पीपीई लागत में शामिल हैं।