अमेरिका की नई बाइडेन सरकार पर दबाव बनाने के लिए उत्तर कोरिया ने किया 2 बैलिस्टिक मिसाइलों का परीक्षण
North Korea tests 2 ballistic missiles to pressure US new Biden government

अमेरिका की नई बाइडेन सरकार पर दबाव बनाने के लिए उत्तर कोरिया ने किया 2 बैलिस्टिक मिसाइलों का परीक्षण

सियोल: उत्तर कोरिया ने वीरवार को दो बैलास्टिक मिसाइलों का एक बार फिर से परीक्षण किया है। उत्तर कोरिया का ये परीक्षण अपनी सैन्य क्षमताओं को बढ़ाने के लिए और अमेरिका पर दबाव बनाने के नजरिए से देखा जा रहा है। वहीं उत्तर कोरिया के परीक्षण के बाद जापान के प्रधानमंत्री योशिहिदे सुगा ने कहा कि यह परीक्षण ‘जापान तथा क्षेत्र में शांति एवं सुरक्षा’ के लिए खतरा है और तोक्यो उत्तर कोरिया की गतिविधियों पर अमेरिका तथा दक्षिण कोरिया के साथ करीबी समन्वय बनाए रखेगा।

दक्षिण कोरिया के ज्वाइंट चीफ ऑफ स्टाफ ने कहा उत्तर कोरिया के पूर्वी तट पर सुबह करीब 7 बजकर 6 मिनट और 7 बजकर 25 मिनट पर मिसाइलें दागी गईं। मिसाइलों ने समुद्र में गिरने से पहले 450 किलोमीटर की यात्रा तय की। अमेरिका हिंद-प्रशांत कमान के प्रवक्ता कैप्टन माइक काफ्का ने कहा कि अमेरिकी सेना को मिसाइलों के बारे में जानकारी है और वह सहयोगियों के साथ करीबी परामर्श करते हुए स्थिति पर नजर रख रही है। काफ्का ने कहा, ‘यह गतिविधि दिखाती है कि उत्तर कोरिया के अवैध हथियार कार्यक्रम से उसके पड़ोसियों और अंतरराष्ट्रीय समुदाय को खतरा है।’

यह मिसाइलें ऐसे समय में दागी गई हैं जब एक दिन पहले अमेरिका और दक्षिण कोरिया के अधिकारियों ने कहा कि उत्तर कोरिया ने इस सप्ताहांत कम दूरी की मिसाइलों का परीक्षण किया जिसे क्रूज मिसाइलें माना जा रहा है। उत्तर कोरिया का अमेरिका के नए प्रशासन को मिसाइल परीक्षणों के जरिए आजमाने का इतिहास रहा है। अभी यह स्पष्ट नहीं है कि आगामी हफ्तों में उत्तर कोरिया पर अपनी नीति की समीक्षा पूरी करने से पहले बाइडेन प्रशासन इस पर क्या प्रतिक्रिया देगा। अमेरिका के साथ परमाणु वार्ता में गतिरोध पैदा होने के बीच उत्तर कोरिया ने यह परीक्षण किए हैं।