चुनावी रैलियों पर मद्रास हाईकोर्ट ने लगाई ईलेक्शन कमिशन को लताड़, चुनाव अधिकारियों पर ये चार्ज लगाने की कही बात… पढ़ें पूरी खबर
Madras High Court taunts Election Commission on election rallies, said to impose this charge on election officials ... Read full news

चुनावी रैलियों पर मद्रास हाईकोर्ट ने लगाई ईलेक्शन कमिशन को लताड़, चुनाव अधिकारियों पर ये चार्ज लगाने की कही बात… पढ़ें पूरी खबर

चेन्नईः देश में फैली कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने जहां पूरे देश में हाहाकार मचा दिया है, वहीं मद्रास हाईकोर्ट ने इलेक्शन कमिशन को इसका जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि चुनाव आयोग ने कोरोना संकट के बाद भी चुनावी रैलियों को नहीं रोका था। मद्रास हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस एस. बनर्जी ने सुनवाई के दौरान कहा कि चुनाव आयोग ही कोरोना की दूसरी वेव का जिम्मेदार है। कोर्ट ने कहा कि चुनाव आयोग के अधिकारियों पर अगर मर्डर चार्ज लगाया जाए तो गलत नहीं होगा।

अदालत में जब चुनाव आयोग ने जवाब दिया कि उनकी ओर से कोविड गाइडलाइन्स का पालन किया गया, वोटिंग डे पर नियमों का पालन किया गया था। इसपर अदालत नाराज हुई और पूछा कि जब प्रचार हो रहा था, तब क्या चुनाव आयोग दूसरे प्लेनट पर था। अदालत ने इसी के साथ चेतावनी दी है कि अगर दो मई को कोविड से जुड़ी गाइडलाइन्स का पालन नहीं हुआ और उसका ब्लूप्रिंट नहीं तैयार किया गया, तो वह मतगणना पर रोक लगा देंगे।

अदालत ने सुनवाई के दौरान कहा कि स्वास्थ्य का मसला काफी अहम है, लेकिन चिंता की बात ये है कि अदालत को ये याद दिलाना पड़ रहा है. इस वक्त हालात ऐसे हो गए हैं कि जिंदा रहने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। हाईकोर्ट ने अब चुनाव आयोग को निर्देश दिया है कि वह हेल्थ सेक्रेटरी के साथ मिलकर प्लान बनाना चाहिए और काउंटिंग डे की तैयारी करनी चाहिए. हाईकोर्ट ने 30 अप्रैल तक प्लान बनाकर देने के लिए कहा है।